in Hindi Poetry

यह आँखें तुझे ही ढूंढे माँ

सुबह सुबह जब आँख खुले
पल पल जब तक रात ढले
यह दिल तुझे ही महसूस करे माँ
और यह आँखें तुझे ही ढूंढें माँ

 

तेरी दांट मुझे अक्सर याद आये
प्रेम से पड़ी मार आज मुझे रुलाए
यह कान तेरी ही वाणी ढूंढे माँ
और यह आँखें तुझे ही ढूंढे माँ

तेरे हाथो का स्पर्श नहीं भूला मै
तेरी गोद की नींद नहीं भूला मै
यह मस्तक तेरा ही आँचल ढूंढे माँ
और यह आँखें तुझे ही ढूंढे माँ

 

तेरी ममता की चादर बहुत बड़ी है
तेरे प्यार की बोछार एक निरंतर झड़ी है
मेरा हर शब्द तुझे ही हर पल पुकारे माँ
और यह आँखें तुझे ही ढूंढे माँ

Write a Comment

Comment