in Hindi Poetry

मुझे तेरी जरुरत है – Mujhe Teri Jaroorat Hai

तुझे देखा तो यह माना
की तू सोने की मूरत है
तुझे जाना तो यह पहचाना
कि तू कितनी खूबसूरत है

मैं तो हो गया हूँ घायल
जबसे देखी तेरी नजाकत है
तेरी निगाहों ने कर दिया है कायल
बस एक ये ही शिकायत है

देख के तेरा चेहरा इतना भोला
सूझे मुझे भी पल पल शरारत है
जिस रोग ने बना दिया मुझे दीवाना
वोह तेरी याद ए मोहब्बत है

इतना इंतज़ार न करवाओ
कि अभी दूर वो शुभ मुहूरत है
बस जल्दी से तुम आ जाओ
कि अब मुझे तेरी जरुरत है

Write a Comment

Comment